Skip to main content

Posts

Showing posts from January, 2024

Featured

मेरे प्रभु राम से अयोध्या फिर से जगमगाई है - Shree Ram Bhajan

मेरे प्रभु राम से अयोध्या फिर से जगमगाई है - Shree Ram Bhajan

मेरे प्रभु राम से अयोध्या फिर से जगमगाई है  अयोध्या फिर से जगमगाई है  मेरे प्रभु राम जी की छवि फिर से मन भाई है  सनातन धर्म की भारत में फिर से लहर दौड़ आई है  मिलकर बोलो सिया राम जय जय राम  मेरे प्रभु राम जय जय राम  राम लला हमारे फिर से अयोध्या गर्भ में आये है  इनकी रूप रेखा देख कर आँखों में नमी आये है  भक्तो के दिल में प्रभु राम समाये है  अगर आप को भी प्रभु राम को पाना है  तो हनुमान बनकर दिखाना है  वही हनुमान है जो सबसे महान भक्त कहलाये है  और प्रभु राम को अपने सीने में हमेशा के लिए समाये है  हम कहते है की मेरे प्रभु राम आये है  वो भगवन है भक्तो  भक्तो के बुलाने से दौड़े चले आते है  चाहे राम के रूप में आये कृष्ण के रूप  पर भक्तो पर कष्ट कभी आने नहीं देते है  मिलकर बोलो सिया राम जय जय राम  मेरे प्रभु राम जय जय राम  मेरे प्रभु राम का राजनीती मुद्दा ना बनाओ  बस दिल से प्रभु श्री राम के गुण  गाओ  क्या पता कब प्रभु राम की आप पर नज़र पड़  जाए  और आपकी भी किस्मत पलट जाए   आप को भी प्रभु श्री के चरणों में स्थान मिल जाए  अयोध्या जाने की क्या जरूरत है  आप घर से प्रभु राम  को दिल से याद करना  घर में

Arrange Marriage

Arrange Marriage  जिन्हे हम जानते भी नहीं थे  उन्हें अपना जीवन साथी बनाया है हमने  इस रिश्ते को दिल से अपनाया है हमने  परिवार की ख़ुशी में खुद को ढाला है हमने  जब ही तो इस Arranged Marriage दिल से निभाया है हमने  उस अजनबी के साथ जीवन भर रहने की कशम खाई है हमने   बचपन से जिन माता पिता के साथ रहे एक झटके में ही उनसे दूर हो गए  देखते ही देखते उनके घर भी एक माता पिता और बन गए  कोई उन्हें सास ससुर कहता है  उन्हें माता पिता के रूप में अपनाया है हमने  कुछ महीने तो जी नहीं लगता है  मन करता है यहाँ से भाग जाऊं  अपने बचपन के माता पिता के पास लौट जाऊ  फिर इस दिल को संभालना पड़ता है  आंसूं बहाकर खुद को रोकना  पड़ता है  माँ के कहने पर हर रिश्ते को गहराई से जाना है हमने  इस सफर में हमसफ़र अच्छा मिल जाए तो  सारे गीले सिकवे मिट जाते है  हर कठिन सफर को सरलता से पार कर लेते है  क्योकि उस हमसर ने कभी गले लगा कर समझाया हमें  कभी गोदी में लिटाकर इन अश्को को हटाया  है उसने  तो कभी अपने माता पिता के सामने हमको पलकों पर बिठाया है उसने   इस तरह  यह ज़िन्दगी अच्छी कट जाती है  बस खुद को समझाना पड़ता  है  कुछ गलत फैसले