Skip to main content

Women Day Special - महिला दिवस पर कुछ खास

लेखक - धुर्वील 

जिनसे इनका सृजन होता है उनको ये गंदगी कहते है , रक्त के उन लाल बूंदो को ये मामूली कहते है।  पांच दिन उससे अछूत की तरह घृणा का व्यवहार करते है कैसे ये मासिक होने को शर्मसार कर अपने अस्तित्व का उपहास करते है। 



पीरियड्स महावारी रजस्वला आखिर क्या  है ये बला ?



तुम जो अपनी मर्दानगी  पर इतना  इतराते हो 
दरअसल बाप तुम इस क्रिया से ही बन पाते हो। 

 कुछ मर्दो को नहीं है जरा सी तमीज
उनके लिए है ये बस उपहास  की चीज। 

हम 21 वी सदी जी रहे है 
चाँद का नूर पी रहे है 
पर विस्पर आज भी पैक करके दिया जाता है। 


जैसे हमे कोई छूत की बीमारी है 
ऐसे हमे सबसे अलग कर दिया जाता है 
चुपचाप दर्द पीना सीखा देते है 
किसी को पता न चले घर में 
ये भी समझा देते है। 

भाई पूछता है की पूजा क्यों नहीं की 
तो उसे सर झुकाकर समझाना पड़ता है 
चाहे दर्द में रोती रहू 
पर पापा को देखकर मुस्कुराना पड़ता है। 


पेट के निचले हिस्से को जैसे कोई निचोड़ देता है 
कमर और जांघ की हड्डिया जैसे कोई तोड़ देता है 
खून की रिस्ति बून्द के साथ तड़पती हूँ मैं 
और जिसे तुमने नाम दिया "क्रेम्प्स" का 
उसमे सोफे पर निढाल होकर सिसकती हु मैं। 

अब पुरुष कहोगे इसमें हमारी क्या गलती है 
हमारा क्या दोष है ?
तो सुनो तुमसे हमारी न कोई शिकयत 
न कोई रोष है। 
 

बस जब तड़पे हम दर्द से 
तो "मैं हूँ ना" ये एहसास करवा देना 
गर्म पानी की बोतल लाकर तुम दर्द मिटा देना 
जो लगे चाय की तलब तो एक कप चाय पीला देना 
पैड खतम हो जाये तो बिना झुँझलाये ला देना।
 
"तो मैं क्या करुँ" बोल कर मुँह मोड़ कर जाना मत 
"रेड अलर्ट" "लाल बत्ती" जैसे शब्दों से चिढ़ाना  मत 
बालो में तेल लगाकर पीठ को सहलाकर 
बस जरा सा प्यार जता देना। 

हम जो धर्म निभाते है महीने के 27 दिन 
तुम बस 3 दिन निभा देना। 
   

अगर आपको यह कविता अच्छी लगी तो कमेंट और शेयर जरूर करे और मैं चाहता हु इसे पढ़ने के बाद आप अपने विचार जरूर व्यक्त करे।  हमे अच्छा लगेगा। 

मै उम्मीद करता हूँ आपको नारी और उसके पीरियड्स को समझना जरुरी है , हमारे सबके परिवार में स्त्री जरूर होगी चाहे माँ, बीवी , बहन , या बेटी, हमे उनके पीरियड्स जो 4-5 दिन तक आते है , उस दर्द को समझना होगा और उनके काम में सहयोग भी करना चाहिए ।  अगर आपको भी  ऐसी कविता और कहानी लिखना अच्छा लगता है   और  आप पोस्ट करवाने चाहते हो तो हमे हमारी मेल पर भेजे npccolguy1@gmail.com हम आपकी उस कहानी और कविता को अपने ब्लॉग में लिखेंगे और पोस्ट करेंगे। आपका अपना ब्लॉग www.idealjaat.com



धन्यवाद 

आपका नवी 


Comments

  1. Its amazingly true .poem is true and reality is very sad ..thanks and congrats to you ,who wrote such a poem and tried to understand the pain,feelings and expectations of a female

    ReplyDelete
  2. Its amazingly true and sad .poem is beautiful.Thanks for understanding the pain ,feelings and expectations of a female so truely and superbly

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

संघर्ष ही जीवन है

 संघर्ष ही जीवन है  संघर्ष (struggle) ये अक्षर दिखने में छोटा सा है , परन्तु यह जीवन का हिस्सा है या समझ लीजिये की संघर्ष का नाम ही जीवन है , मनुष्य  या फिर पशु पक्षी हर किसी  का जीवन एक संघर्ष है | अगर हम सरल शब्दों में संघर्ष को परिभाषित करे तो हम सब संघर्ष से घिरे हुए और जो सफलता या  सीख मिलती है वो संघर्ष की ही देन है |  संघर्ष जीवन को निखारता, संवारता  व तराशता  हैं और गढ़कर ऐसा बना देता  हैं, जिसकी प्रशंसा करते जबान थकती नहीं। संघर्ष हमें जीवन का अनुभव कराता  हैं, सतत सक्रिय बनाता  हैं और हमें जीना सिखाता  हैं। संघर्ष का दामन थामकर न केवल हम आगे बढ़ते हैं, बल्कि जीवन जीने के सही अंदाज़ को – आनंद को अनुभव कर पाते हैं। SELFISH HUMANS - HOW TO DEAL WITH SELFISH HUMANS ? संघर्ष सफलता की कुंजी संघर्ष जीवन का वह मूलमंत्र है जिसका अनुभव हर कोई व्यक्ति करता  है और संसार में बहुत ही कम व्यक्ति होंगे जो इसका  अनुभव पाने से वंचित रहे  हो , समाज में हर कोई नाम, शोहरत, पैसा , इज्जत कमाना या फिर पढ़ाई में अव्वल होना  चाहे जो भी लक्ष्य हो वह बिना संघर्ष  के अधूरा है! संघर्ष जीवन में उतार - चढ़ाव का

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी - अगर प्यार सच्चा हो तो किस्मत उन्हें मिला ही देती है

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी  किसी  ने सच ही कहा है अगर आप किसी को सच्चे दि ल से चाहो तो कायनात भी उसे आपसे मिलाने में  जुट जाती है। और अगर किस्मत भी साथ दे दे तो वो आपको जरूर मिल जाता है।   यह कहानी कुछ ऐसी ही है जिसमे दो प्यार करने  वाले एक दूसरे से जुदा होने के बाद भी मिल जाते है।  यह कहानी और कहानियो की तरह नहीं है।  इस कहानी में किस्मत दो प्यार करने वालो को फिर से मिलाती  है।  और उन दोनों को भी नहीं पता था  कि वो दोनों जिंदगी में दुबारे मिल पाएंगे।  चलो अब हम कहानी की शुरआत करते है इस कहानी को पूरा पढ़ना जब ही आपको समझ आएगा की प्यार  किसे कहते और उसका पास होने का और जुड़ा होने का एहसास कैसा होता है।  राज और काजल दिल्ली के एक ही कॉलेज में पढ़ते है, दोनों की कॉलेज में दोस्ती हो जाती है।  और धीरे धीरे दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगते है।  राज और काजल एक दूसरे को अच्छे से समझने लगते है , और  उन दोनों का समय के साथ साथ दोस्ती और  प्यार बढ़ता जाता है। कॉलेज का आखिरी पड़ाव था और दोनों अब एक दूसरे से अलग हो रहे थे दोनों बेचैन थे की आगे वो मिल पाएंगे या नहीं उनकी जिंदगी उन्हें किस मोड़ पर

छोटी कहानी बड़ी सीख

  छोटी कहानी बड़ी सीख  🖊 लेखक नविन  एकबार एक चोर ने कसम खाई के जिंदगी में मैं कभी झूठ नहीं बोलूंगा।  परन्तु पेशे से वो तो चोर था।  और आप सब जानते है की झूठ तो चोर का सबसे महत्वपूर्ण हथियार होता है।   एकदिन वो अपनी तीन चार गधो पर समान के गट्ठर रखे हुए जा रहा था रास्ते में पुलिस चेक पोस्ट पड़ी उसके पास एक दरोगा आया और पूछा। की तुम कोन हो और क्या करते हो। सामने से जवाब मिला नसरुद्दीन हूँ  और चोरी करता हूँ।  दरोगा हैरान हो गया उसने सरे गट्ठर खुलवाए और चेक किया ज्यादा कुछ मिला नहीं सिवाय कुछ लकड़ियों के।  उसने नसरुद्दीन को जाने दिया।  कुछ दिनों बाद नसरुद्दीन फिर वही चेक पोस्ट पार कर रहा था।  फिर वही दरोगा मिला और पूछा अब भी चोरी करते हो क्या ? नसरुद्दीन ने कहा हां चोर हूँ तो चोरी ही करूंगा।  दरोगा ने फिर से सारा समान खुलवाया और चेक किया और फिर से कुछ नहीं मिला।  ये सिलसिला पुरे 20 सालो तक चलता रहा, वो दरोगा रिटायर हो गया लेकिन उसे यही एक बात खलती रही की चोर्ने समने से कुबूल किया के वो चोर है फिर भी वो कुछ बरामद नहीं क्र पाया चोरी साबित नहीं कर पाया।   Cricket Update एकदिन नसरुद्दीन दरोगा जी