Skip to main content

मेरा गांव है शहर से निराला - गांव की सभ्यता

लेखिका - पूजा डबास 

मेरा गांव है शहर से निराला   



तेरी बुराइयों को हर अख़बार कहता है, 

और तू मेरे गांव को गवार कहता है।  

ऐ शहर मुझे तेरी औकात पता है, 

तू चुल्लू भर पानी को वाटर पार्क कहता है।  

थक गया हर शख्स काम करते करते ,

तू इसे अमीरी का बाजार कहता है। 

गांव चलो वक्त ही वक्त है सबके पास, 

तेरी सारी फुरसत तेरा इतवार कहता है।  

एक पिता और बेटी की कहानी 

बड़े बड़े मसले हल करती है यहां पंचायते, 

तू अंधी भ्र्ष्ट दलीलों को दरबार कहता है। 

बैठ जाते है अपने पराये साथ बैलगाड़ी में ,

पूरा परिवार भी बैठ न पाए तू उसे कार कहता है।  

अब बच्चे भी बड़ो का आदर भूल बैठे है ,

तू इस दौर को संस्कार कहता है। 

गरीबी - एक तस्वीर में बयाँ होती हुई

बच्चा जवान थैली और पाउडर का दूध पीकर होता है ,

मेरे गांव में भैंस और गाय का दूध पीकर जवान होता है। 

तेरे यहां अंग्रेजी भाषा में बकबक करते है,

और हम गांव की भाषा को समझते है। 

जिन्दा है आज भी गांव में देश की संस्कृति, 

तू भूल के सभ्यता खुद को तू शहर कहता है।   

तू धूल से मुँह को ढकता है ,

हम आज भी मिटटी को सर माथे लगाते है। 

तू किसान को ग्वार कहता है ,

और वही किसान अनाज से तेरा पेट भरता है। 

तू छोटे और फटे कपड़े पहनता है ,

और हम अपनी सभ्यता का पहनावा पहनते है। 

हम देसी घी रोटी और साग कहते है ,

और तुम फ़ास्ट फ़ूड को खाना कहते हो। 

शहर के नौकरी करने दूसरे देश जाते है,

गांव के सीमा पर अपने देश की सुरक्षा करते है। 

आज इस गांव और सभ्यता की वजह से 

जय जवान और जय किसान का देश है अपना,

पर ऐ शहर तेरी राजनीती ने इस नारे का अपमान किया,  

जवान और किसान को ही आपस में  लड़वा दिया। 

थोड़ी ख़ुशी थोड़ा गम - ख़ुशी और गम का सफर 


आपको यह कविता गांव और शहर के बीच की कैसी लगी, इसकी लेखिका पूजा डबास है और मुझे यह कविता बहुत अच्छी लगी तो सोचा आप लोगो के साथ शेयर करू और आपको भी अच्छी लगे  तो इसे शेयर जरूर करे और आप भी ऐसी कविता और कहानी लिखते है और पोस्ट करवाने चाहते हो तो हमे हमारी मेल पर भेजे npccolguy1@gmail.com हम आपकी उस कहानी और कविता को अपने ब्लॉग में लिखेंगे और पोस्ट करेंगे। आपका अपना ब्लॉग www.idealjaat.com 

धन्यवाद 
आपका नवी 

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

संघर्ष ही जीवन है

 संघर्ष ही जीवन है  संघर्ष (struggle) ये अक्षर दिखने में छोटा सा है , परन्तु यह जीवन का हिस्सा है या समझ लीजिये की संघर्ष का नाम ही जीवन है , मनुष्य  या फिर पशु पक्षी हर किसी  का जीवन एक संघर्ष है | अगर हम सरल शब्दों में संघर्ष को परिभाषित करे तो हम सब संघर्ष से घिरे हुए और जो सफलता या  सीख मिलती है वो संघर्ष की ही देन है |  संघर्ष जीवन को निखारता, संवारता  व तराशता  हैं और गढ़कर ऐसा बना देता  हैं, जिसकी प्रशंसा करते जबान थकती नहीं। संघर्ष हमें जीवन का अनुभव कराता  हैं, सतत सक्रिय बनाता  हैं और हमें जीना सिखाता  हैं। संघर्ष का दामन थामकर न केवल हम आगे बढ़ते हैं, बल्कि जीवन जीने के सही अंदाज़ को – आनंद को अनुभव कर पाते हैं। SELFISH HUMANS - HOW TO DEAL WITH SELFISH HUMANS ? संघर्ष सफलता की कुंजी संघर्ष जीवन का वह मूलमंत्र है जिसका अनुभव हर कोई व्यक्ति करता  है और संसार में बहुत ही कम व्यक्ति होंगे जो इसका  अनुभव पाने से वंचित रहे  हो , समाज में हर कोई नाम, शोहरत, पैसा , इज्जत कमाना या फिर पढ़ाई में अव्वल होना  चाहे जो भी लक्ष्य हो वह बिना संघर्ष  के अधूरा है! संघर्ष जीवन में उतार - चढ़ाव का

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी - अगर प्यार सच्चा हो तो किस्मत उन्हें मिला ही देती है

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी  किसी  ने सच ही कहा है अगर आप किसी को सच्चे दि ल से चाहो तो कायनात भी उसे आपसे मिलाने में  जुट जाती है। और अगर किस्मत भी साथ दे दे तो वो आपको जरूर मिल जाता है।   यह कहानी कुछ ऐसी ही है जिसमे दो प्यार करने  वाले एक दूसरे से जुदा होने के बाद भी मिल जाते है।  यह कहानी और कहानियो की तरह नहीं है।  इस कहानी में किस्मत दो प्यार करने वालो को फिर से मिलाती  है।  और उन दोनों को भी नहीं पता था  कि वो दोनों जिंदगी में दुबारे मिल पाएंगे।  चलो अब हम कहानी की शुरआत करते है इस कहानी को पूरा पढ़ना जब ही आपको समझ आएगा की प्यार  किसे कहते और उसका पास होने का और जुड़ा होने का एहसास कैसा होता है।  राज और काजल दिल्ली के एक ही कॉलेज में पढ़ते है, दोनों की कॉलेज में दोस्ती हो जाती है।  और धीरे धीरे दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगते है।  राज और काजल एक दूसरे को अच्छे से समझने लगते है , और  उन दोनों का समय के साथ साथ दोस्ती और  प्यार बढ़ता जाता है। कॉलेज का आखिरी पड़ाव था और दोनों अब एक दूसरे से अलग हो रहे थे दोनों बेचैन थे की आगे वो मिल पाएंगे या नहीं उनकी जिंदगी उन्हें किस मोड़ पर

छोटी कहानी बड़ी सीख

  छोटी कहानी बड़ी सीख  🖊 लेखक नविन  एकबार एक चोर ने कसम खाई के जिंदगी में मैं कभी झूठ नहीं बोलूंगा।  परन्तु पेशे से वो तो चोर था।  और आप सब जानते है की झूठ तो चोर का सबसे महत्वपूर्ण हथियार होता है।   एकदिन वो अपनी तीन चार गधो पर समान के गट्ठर रखे हुए जा रहा था रास्ते में पुलिस चेक पोस्ट पड़ी उसके पास एक दरोगा आया और पूछा। की तुम कोन हो और क्या करते हो। सामने से जवाब मिला नसरुद्दीन हूँ  और चोरी करता हूँ।  दरोगा हैरान हो गया उसने सरे गट्ठर खुलवाए और चेक किया ज्यादा कुछ मिला नहीं सिवाय कुछ लकड़ियों के।  उसने नसरुद्दीन को जाने दिया।  कुछ दिनों बाद नसरुद्दीन फिर वही चेक पोस्ट पार कर रहा था।  फिर वही दरोगा मिला और पूछा अब भी चोरी करते हो क्या ? नसरुद्दीन ने कहा हां चोर हूँ तो चोरी ही करूंगा।  दरोगा ने फिर से सारा समान खुलवाया और चेक किया और फिर से कुछ नहीं मिला।  ये सिलसिला पुरे 20 सालो तक चलता रहा, वो दरोगा रिटायर हो गया लेकिन उसे यही एक बात खलती रही की चोर्ने समने से कुबूल किया के वो चोर है फिर भी वो कुछ बरामद नहीं क्र पाया चोरी साबित नहीं कर पाया।   Cricket Update एकदिन नसरुद्दीन दरोगा जी