Skip to main content

IPL के 13 वें सीजन के 55 वें मैच में DC Vs RCB

आईपीएल के 13 वें सीजन के 55 वें  मैच में दिल्ली कैपिटल (DC ) Vs  रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (RCB ) के बीच मैच खेला गया ! यह मैच दोनों टीमों को लिए निर्णायक मैच था क्योकि जो भी   टीम जीत हासिल करती वह 2 नंबर पर आ जाती ! और दिल्ली कैपिटल ने जीत हासिल की रॉयल  चैलेंजर्स बेंगलुरु को 6  विकेट से हरा दिया ! जीत के  प्ले-ऑफ में क्वालीफाई करते हुए पॉइंट्स टेबल में दूसरे स्थान पर पहुंच गयी है ! अब 5 नवम्बर को दिल्ली का मुकाबला  क्वालीफायर -१ मुंबई इंडियंस के साथ होगा ! वही हार  बाद भी RCB प्ले-ऑफ में जगह बनाने  हुई और वह नंबर 3 पर कायम है !


 इस मैच में DC ने टॉस जीता और दिल्ली के कप्तान ने कहा कि  हम पहले गेंदबाजी करेंगे। ओस एक बड़ी भूमिका निभाने जा रही है। पिछले खेलों को देखते हुए सतह एक बेल्टर थी। यह पिच  बल्लेबाजी के लिए भी अद्भुत है। इसलिए रनो का पीछा करते हमारा खेल अच्छा रहेगा और हम रन-रेट के साथ-साथ उन कुछ बातो पर से स्पष्ट रूप से विचार करेंगे। हमारे पास तीन बदलाव हैं - रहाणे, एक्सर और सैम्स को टीम में शामिल किया गया  हैं। यह एक जटिल स्थिति है, लेकिन आईपीएल एक  ऐसा शानदार टूर्नामेंट  है, यह आपको किसी भी पल आश्चर्यचकित कर सकता है, मुझे व्यक्तिगत रूप से लगता है कि यह हमारे लिए एक शानदार मौका है। दूसरे स्थान पर आने का । हम उन चीजों को ध्यान में रखेंगे और उस मानसिकता के साथ चलेंगे। 


कोहली ने टॉस हरने के बाद कहा - हमारे पास कुछ बदलाव हैं। गुरकीरत मान की याद आती है, सैनी के जगह शाहबाज अहमद खेलेंगे  है। सैनी  अभी भी सही नहीं है और वह मैदान में संघर्ष कर रहे थे। यह सरल है कि आप क्रिकेट का हर खेल खेलते हैं और जीतते हैं। बातचीत कभी नहीं बदलती है और आप किसी भी खेल को हल्के में नहीं लेते हैं। लेकिन यह एक क्रंच खेल है, पहले बल्लेबाजी करना और बोर्ड पर रन बनाना कोई बुरी बात नहीं है, हम गेंदबाजी भी करना पसंद करेंगे। बड़े खेलों में दबाव एक मज़ेदार चीज़ हो सकती है। आपको जो भी दूसरी टीम मिलेगी उसका पीछा करना होगा। हमें अच्छी क्रिकेट खेलनी है, लगातार हमने अच्छा प्रदर्शन किया है, हमारे पास कुछ खराब खेल हैं जो स्वीकार्य हैं और इस तरह के टूर्नामेंट में यह प्रतिस्पर्धी है, और आज इस मुकाबले की उम्मीद है। हम पहले भी इस स्थिति में रहे हैं, इससे पहले हमने जो तीन फाइनल खेले थे, उन सभी संस्करणों में शायद इस तरह से गुजरना पड़ा था। मानसिकता सरल गेम जीतना था, आगे बढ़ना और आप अन्य संभावनाओं के बारे में नहीं सोचते। यह मूल रूप से आप दिन में कैसे खेलते हैं, परिणाम एक निश्चित तरीके से बाहर निकलता है, और यदि आपने अच्छा नहीं खेला है, तो आप उस स्थिति में रहने के लायक नहीं हैं जहां आप अन्य टीमों से कुछ और करने की उम्मीद करते हैं। यह आज सभी दो टीमों के लिए है और उन्होंने अपनी योजनाओं को कैसे अंजाम दिया।  


कोहली की टीम पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में बस 152 रन ही बना पायी 7 विकेट खो कर ! पहले विकेट ज्यादा सांझेदारी नहीं कर पायी  विकेट 25 रन  स्कोर पर ही  Phillepe के रूप में आउट हो गयी उसके बाद  देवदत्त और कप्तान कोहली मिलकर कुछ रन बनाये और कोहली को 10  ओवर में नोर्त्जे के हाथो जीवनदान भी मिला था जब उनका स्कोर 13 थे लेकिन फिर वह लम्बी पारी नहीं  खेल पाए और जब RCB का स्कोर 82 रन था कोहली 29 पर अश्विन की गेंद पर स्टोइनिस को कैच थमा बैठे ! देवदत्त ने एक बार फिर  से अच्छी बल्लेबाजी की और 41 गेंद खेल कर 50 रन बनाकर आउट हो गए ! वही दूसरी तरफ रॉयल की शान विल्लियर्स अच्छा खलते नज़र आ रहे थे लेकिन वह भी रन आउट हो गए और बेंगलुरु की टीम 152 रन ही  बना पाए ! वही आज फिर दिल्ली के दो खास बॉलर  ने कमाल कर दिया Nortje ने 4  ओवर में 33 रन देकर 3 विकेट लिए और दूसरी तरफ Rabada  ने  4  ओवर में 30  रन देकर 2  विकेट लिए!

152 का लक्ष्य पाने के लिए दिल्ली की टीम मैदान में उत्तरी और उनके ओपनर पृथ्वी शाह 9 बनाकर सिराज के हाथो बोल्ड हो गए उसके बाद आये Rahane जिन्हे   मैच  में खिलाया गया था Rahane और Dhawan ने मिलकर बेंगलुरु के बोलर्स की नाक में दम कर दिया और फिर Dhawan (गब्बर सिंह ) 54 के स्कोर पर Shabaz के गेंद पर एक आसान से कैच थमा बैठे और कप्तान अय्यर भी जल्दी आउट हो गए उनके पीछे पीछे रहाणे भी 60 रन बनाकर आउट हो  गए ! Rahane ने लगभग दिल्ली  की जीत तय कर दी थी ! उसके बाद पंत और स्टोइनिस ने 19 ओवर में दिल्ली को जीत दिला दी ! बेंगलुरु की तरफ से बस Shahbaz Ahmed ने ही अच्छी बॉलिंग की उन्होंने 4 ओवर में 26  रन देकर 2 विकेट प्राप्त की!


PLAYER OF THE MATCH- Anrich Nortje  ने कहा कि यह समय और समय  से बेहतर है, यह सिर्फ मूल बातें कर रहा है और एक आदमी से कुछ खास नहीं है। इस खेल में आते ही, छोटी चीजें बेहतर महसूस करने लगीं और मुझे लगता है कि उन छोटी चीजों को, एक बार जब आप सही हो जाते हैं, तो आप अपनी लय हासिल कर लेते हैं। हम उन्हें बड़ी सीमा तक हिट करने की सोच रहे थे और प्रत्येक बल्लेबाज के खिलाफ अपनी योजना बना रहे थे। हमारी पारी के अंत में थोड़ी सी ओस थी और हमने अनुमान नहीं लगाने का प्रयास किया। यॉर्कर स्पष्ट विकल्प होता और हम इसे बदलना चाहते थे और देखते हैं कि यह कैसे जाता है और कठिन लंबाई को मारना चाहता है। थोड़ी अतिरिक्त गति होने से हमेशा मदद मिलती है। सभी प्लेऑफ़ के लिए तैयार है उन्होंने (मुस्कुराते हुए) 



आईपीएल के इतिहास में दिल्ली कैपिटल / डेयरडेविल्स पहली ऐसी टीम है जो पॉइंट्स टेबल  पोजीशन पर रही है ! हम पॉइंट्स टेबल में अंक तालिका में दस में से प्रत्येक में पोजीशन पर रही दिल्ली की टीम पर निचे नज़र डालेंगे  - दिल्ली ऐसा करने वाली एकमात्र टीम। 
#1: 2009, 2012 
#2: 2020
#3: 2019
#4: 2008
#5: 2010
#6: 2016, 2017
#7: 2015
#8: 2014, 2018
#9: 2013
#10: 2011

दिल्ली ने चौथी प्ले-ऑफ में  जगह बनाई है इससे पहले 2008 ,2009 और 2019में प्ले-ऑफ खेली थी ,  अभी तक फाइनल नहीं खेल सकी !

 मुंबई-हैदराबाद के मुकाबले में तय होगी चौथी टीम

प्ले-ऑफ में लिए मुंबई इंडियंस, दिल्ली कैपिटल्स और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने अपनी जगह पक्की कर ली है। अब चौथी टीम का फैसला मंगलवार को मुंबई और हैदराबाद के बीच होने वाले लीग के आखिरी मुकाबले में होगा। अगर हैदराबाद यह मैच जीत लेती है, तो वह सीधे प्ले-ऑफ के लिए क्वालिफाई कर जाएगी। अगर मुंबई यह मैच जीत जाए, तो कोलकाता नाइट राइडर्स प्ले-ऑफ में पहुंचने वाली चौथी टीम बनेगी।

कुछ नज़ारे पिक्चर के साथ मैच के !


रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के कप्तान विराट कोहली को 10वें ओवर में जीवनदान मिला। इस ओवर की आखिरी बॉल पर एनरिच नोर्तजे ने कोहली कैच छोड़ा। इसके बाद भी वे बड़ी पारी नहीं खेल पाए।
रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के ओपनर जोश फिलिप सिर्फ 12 रन ही बना पाए।
देवदत्त पडिक्कल ने सीजन में अपनी 5वीं फिफ्टी लगाई। डेब्यू सीजन में ऐसा करने वाले पहले अनकैप्ड भारतीय खिलाड़ी हैं।
देवदत्त पडिक्कल ने सीजन में अपनी 5वीं फिफ्टी लगाई। डेब्यू सीजन में ऐसा करने वाले पहले अनकैप्ड भारतीय खिलाड़ी हैं।
कप्तान विराट कोहली ने संभलकर खेलते हुए टीम के स्कोर को आगे बढ़ाया, लेकिन 29 रन बनाकर आउट हुए
कप्तान विराट कोहली ने संभलकर खेलते हुए टीम के स्कोर को आगे बढ़ाया, लेकिन 29 रन बनाकर आउट हुए
मैच में कगिसो रबाडा ने 2 विकेट लिए। इसी के साथ उन्होंने मुंबई इंडियंस के जसप्रीत बुमराह से पर्पल कैप वापस ले ली।
मैच में कगिसो रबाडा ने 2 विकेट लिए। इसी के साथ उन्होंने मुंबई इंडियंस के जसप्रीत बुमराह से पर्पल कैप वापस ले ली।
एनरिच नोर्तजे ने 4 ओवर में 33 रन देकर बेंगलुरु के 3 बल्लेबाजों को आउट किया।
एनरिच नोर्तजे ने 4 ओवर में 33 रन देकर बेंगलुरु के 3 बल्लेबाजों को आउट किया।
एबी डिविलियर्स ने 21 बॉल पर 35 रन की पारी खेली। उन्होंने 2 छक्के और 1 चौका लगाया।
एबी डिविलियर्स ने 21 बॉल पर 35 रन की पारी खेली। उन्होंने 2 छक्के और 1 चौका लगाया।
डिविलियर्स को अजिंक्य रहाणे और ऋषभ पंत ने रन आउट किया।
डिविलियर्स को अजिंक्य रहाणे और ऋषभ पंत ने रन आउट किया।
दिल्ली कैपिटल्स के ओपनर पृथ्वी शॉ सिर्फ 9 रन ही बना सके।
दिल्ली कैपिटल्स के ओपनर पृथ्वी शॉ सिर्फ 9 रन ही बना सके।
मोहम्मद सिराज ने पृथ्वी को बोल्ड किया।
मोहम्मद सिराज ने पृथ्वी को बोल्ड किया।
शिखर धवन में IPL में अपनी 40वीं फिफ्टी लगाई। वे लीग में सबसे ज्यादा फिफ्टी लगाने वाले भारतीय बल्लेबाज हैं।
शिखर धवन में IPL में अपनी 40वीं फिफ्टी लगाई। वे लीग में सबसे ज्यादा फिफ्टी लगाने वाले भारतीय बल्लेबाज हैं।
अजिंक्य रहाणे ने भी IPL में अपनी 28वीं फिफ्टी लगाई।
अजिंक्य रहाणे ने भी IPL में अपनी 28वीं फिफ्टी लगाई।
बेंगलुरु के शाहबाज अहमद ने 4 ओवर में 26 रन देकर 2 विकेट अपने नाम किए।
बेंगलुरु के शाहबाज अहमद ने 4 ओवर में 26 रन देकर 2 विकेट अपने नाम किए।
बेंगलुरु लीग के इतिहास में छठवीं बार प्ले-ऑफ खेलेगी। टीम ने तीन बार (2016, 2011, 2009) फाइनल खेला है, लेकिन अब तक खिताब नहीं जीत सकी।
बेंगलुरु लीग के इतिहास में छठवीं बार प्ले-ऑफ खेलेगी। टीम ने तीन बार (2016, 2011, 2009) फाइनल खेला है, लेकिन अब तक खिताब नहीं जीत सकी।


धन्यवाद 
आपका नवी 

Comments

Popular posts from this blog

संघर्ष ही जीवन है

 संघर्ष ही जीवन है  संघर्ष (struggle) ये अक्षर दिखने में छोटा सा है , परन्तु यह जीवन का हिस्सा है या समझ लीजिये की संघर्ष का नाम ही जीवन है , मनुष्य  या फिर पशु पक्षी हर किसी  का जीवन एक संघर्ष है | अगर हम सरल शब्दों में संघर्ष को परिभाषित करे तो हम सब संघर्ष से घिरे हुए और जो सफलता या  सीख मिलती है वो संघर्ष की ही देन है |  संघर्ष जीवन को निखारता, संवारता  व तराशता  हैं और गढ़कर ऐसा बना देता  हैं, जिसकी प्रशंसा करते जबान थकती नहीं। संघर्ष हमें जीवन का अनुभव कराता  हैं, सतत सक्रिय बनाता  हैं और हमें जीना सिखाता  हैं। संघर्ष का दामन थामकर न केवल हम आगे बढ़ते हैं, बल्कि जीवन जीने के सही अंदाज़ को – आनंद को अनुभव कर पाते हैं। SELFISH HUMANS - HOW TO DEAL WITH SELFISH HUMANS ? संघर्ष सफलता की कुंजी संघर्ष जीवन का वह मूलमंत्र है जिसका अनुभव हर कोई व्यक्ति करता  है और संसार में बहुत ही कम व्यक्ति होंगे जो इसका  अनुभव पाने से वंचित रहे  हो , समाज में हर कोई नाम, शोहरत, पैसा , इज्जत कमाना या फिर पढ़ाई में अव्वल होना  चाहे जो भी लक्ष्य हो वह बिना संघर्ष  के अधूरा है! संघर्ष जीवन में उतार - चढ़ाव का

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी - अगर प्यार सच्चा हो तो किस्मत उन्हें मिला ही देती है

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी  किसी  ने सच ही कहा है अगर आप किसी को सच्चे दि ल से चाहो तो कायनात भी उसे आपसे मिलाने में  जुट जाती है। और अगर किस्मत भी साथ दे दे तो वो आपको जरूर मिल जाता है।   यह कहानी कुछ ऐसी ही है जिसमे दो प्यार करने  वाले एक दूसरे से जुदा होने के बाद भी मिल जाते है।  यह कहानी और कहानियो की तरह नहीं है।  इस कहानी में किस्मत दो प्यार करने वालो को फिर से मिलाती  है।  और उन दोनों को भी नहीं पता था  कि वो दोनों जिंदगी में दुबारे मिल पाएंगे।  चलो अब हम कहानी की शुरआत करते है इस कहानी को पूरा पढ़ना जब ही आपको समझ आएगा की प्यार  किसे कहते और उसका पास होने का और जुड़ा होने का एहसास कैसा होता है।  राज और काजल दिल्ली के एक ही कॉलेज में पढ़ते है, दोनों की कॉलेज में दोस्ती हो जाती है।  और धीरे धीरे दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगते है।  राज और काजल एक दूसरे को अच्छे से समझने लगते है , और  उन दोनों का समय के साथ साथ दोस्ती और  प्यार बढ़ता जाता है। कॉलेज का आखिरी पड़ाव था और दोनों अब एक दूसरे से अलग हो रहे थे दोनों बेचैन थे की आगे वो मिल पाएंगे या नहीं उनकी जिंदगी उन्हें किस मोड़ पर

छोटी कहानी बड़ी सीख

  छोटी कहानी बड़ी सीख  🖊 लेखक नविन  एकबार एक चोर ने कसम खाई के जिंदगी में मैं कभी झूठ नहीं बोलूंगा।  परन्तु पेशे से वो तो चोर था।  और आप सब जानते है की झूठ तो चोर का सबसे महत्वपूर्ण हथियार होता है।   एकदिन वो अपनी तीन चार गधो पर समान के गट्ठर रखे हुए जा रहा था रास्ते में पुलिस चेक पोस्ट पड़ी उसके पास एक दरोगा आया और पूछा। की तुम कोन हो और क्या करते हो। सामने से जवाब मिला नसरुद्दीन हूँ  और चोरी करता हूँ।  दरोगा हैरान हो गया उसने सरे गट्ठर खुलवाए और चेक किया ज्यादा कुछ मिला नहीं सिवाय कुछ लकड़ियों के।  उसने नसरुद्दीन को जाने दिया।  कुछ दिनों बाद नसरुद्दीन फिर वही चेक पोस्ट पार कर रहा था।  फिर वही दरोगा मिला और पूछा अब भी चोरी करते हो क्या ? नसरुद्दीन ने कहा हां चोर हूँ तो चोरी ही करूंगा।  दरोगा ने फिर से सारा समान खुलवाया और चेक किया और फिर से कुछ नहीं मिला।  ये सिलसिला पुरे 20 सालो तक चलता रहा, वो दरोगा रिटायर हो गया लेकिन उसे यही एक बात खलती रही की चोर्ने समने से कुबूल किया के वो चोर है फिर भी वो कुछ बरामद नहीं क्र पाया चोरी साबित नहीं कर पाया।   Cricket Update एकदिन नसरुद्दीन दरोगा जी