Skip to main content

IPL 13वें सीजन मैच 54 कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) Vs. ने राजस्थान रॉयल्स (RR)



 IPL के 13वें सीजन के 54वें मैच में कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) ने राजस्थान रॉयल्स (RR) को 60 रन से हरा दिया। इस जीत के साथ कोलकाता प्ले-ऑफ की रेस में बरकरार है। वहीं, राजस्थान टूर्नामेंट से बाहर होने वाली तीसरी टीम बन गई है। इससे पहले चेन्नई सुपर किंग्स और किंग्स इलेवन पंजाब टूर्नामेंट से बाहर हो चुकीं। 

Stive Smith ने टॉस जीता और कहा कि हम पहले गेंदबाजी करेंगे, ऐसा लगता है कि ओस आ रही है और यह बड़ा कारण है। हमने टूर्नामेंट के अधिकांश हिस्से को अच्छी तरह से गेंदबाजी की है और उम्मीद है कि हम आज रात अच्छी तरह से खेलेंगे। जिन खेलों में हमने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है, हमारे वरिष्ठ बल्लेबाजों ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है और सौभाग्य से स्टोक्स और सैमसन अच्छे प्रदर्शन में हैं। हमने टीम में कोई बदलाव  नहीं किया है ।

Ean Morgan ने टॉस हरने के बाद कहा  कि हम पीछा करना पसंद करेंगे। यह वापस पकड़ने के लिए एक रात नहीं है और इसके लिए हमें एनआरआर में सुधार करने की आवश्यकता है। रॉयल्स कप्तान स्टीव स्मिथ ने प्लेइंग इलेवन में कोई बदलाव नहीं किया। वहीं, कोलकाता के कैप्टन इयोन मोर्गन ने टीम में दो बदलाव किए। रिंकू सिंह और लोकी फर्ग्यूसन की जगह शिवम मावी और आंद्रे रसेल को मौका दिया गया।

दुबई में टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए कोलकाता ने राजस्थान को 192 रन का टारगेट दिया था। इसके जवाब में राजस्थान 9 विकेट के नुकसान पर 131 रन ही बना पाई। कोलकाता के तेज गेंदबाज पैट कमिंस को मैन ऑफ द मैच चुना गया।

कमिंस ने पावर-प्ले में बिखेर दी राजस्थान टीम

करो या मरो के मुकाबले में लक्ष्य का पीछा करने उतरी राजस्थान टीम बड़े मैच का दबाव नहीं झेल सकी। कमिंस ने पावर-प्ले में ही 4 विकेट लेकर टीम को बिखेर दिया। राजस्थान ने 37 रन पर 5 बड़े बल्लेबाज गंवा दिए थे। टीम को शुरुआती 3 झटके कमिंस ने दिए। उन्होंने कप्तान स्टीव स्मिथ (4) को बोल्ड किया। बेन स्टोक्स (18) को विकेटकीपर दिनेश कार्तिक और रॉबिन उथप्पा (6) को कमलेश नागरकोटी के हाथों कैच आउट कराया।

राजस्थान का चौथा विकेट शिवम मावी ने लिया। उन्होंने शिवम मावी (1) को कार्तिक के हाथों कैच आउट कराया। पारी के 5वें ओवर में कमिंस ने रियान पराग को बिना खाता खोले पवेलियन भेजा। कार्तिक ने पराग का कैच लिया।

बटलर और तेवतिया ने की पारी संभालने की कोशिश

जोस बटलर ने 22 बॉल पर 35 और राहुल तेवतिया ने 27 बॉल पर 31 रन बनाकर पारी को कुछ देर संभाला, लेकिन टीम को जीत नहीं दिला सके। दोनों का विकेट वरुण चक्रवर्ती ने लिया। बटलर को कमिंस और तेवतिया को कार्तिक ने कैच आउट किया। संजू सैमसन (1) को शिवम मावी ने विकेटकीपर कार्तिक के हाथों कैच आउट कराया। KKR के तेज गेंदबाज पैट कमिंस ने सबसे ज्यादा 4 विकेट लिए। वरुण चक्रवर्ती और शिवम मावी को 2-2 विकेट मिले।

मोर्गन की सीजन में पहली फिफ्टी

कोलकाता ने 7 विकेट गंवाकर 191 रन बनाए थे। टीम के कप्तान इयोन मोर्गन ने 35 बॉल पर सबसे ज्यादा 68 रन की पारी खेली। उनकी सीजन में यह पहली और लीग में 5वीं फिफ्टी है। उनके अलावा राहुल त्रिपाठी ने 39 और शुभमन गिल ने 36 रन की पारी खेली। आखिर में आंद्रे रसेल ने 11 बॉल पर ताबड़तोड़ 25 रन बनाए। राजस्थान के राहुल तेवतिया ने 4 ओवर में 25 रन देकर सबसे ज्यादा 3 विकेट लिए। इनके अलावा कार्तिक त्यागी को 2 और जोफ्रा आर्चर, श्रेयस गोपाल को 1-1 विकेट मिला।

कोलकाता खराब शुरुआत के बाद बड़े स्कोर तक पहुंची

KKR की शुरुआत बेहद खराब रही थी। टीम ने 1 रन पर ही पहला विकेट गंवा दिया था। नीतीश राणा बिना खाता खोले पवेलियन लौट गए। इसके बाद ओपनर शुभमन और राहुल ने दूसरे विकेट के लिए 72 रन की पार्टनरशिप की। इसके बाद टीम ने 26 रन के अंदर एक के बाद एक 4 विकेट गंवा दिए। यहां से मोर्गन ने रसेल के साथ 45 और पैट कमिंस के साथ 40 रन की पार्टनरशिप कर स्कोर 191 तक पहुंचाया।

तेवतिया ने कोलकाता के 3 खिलाड़ी पवेलियन भेजे

तेवतिया ने KKR को 3 झटके दिए। उन्होंने दिनेश कार्तिक और सुनील नरेन को बिना खाता खोले पवेलियन भेजा। कार्तिक को स्टीव स्मिथ और नरेन को बेन स्टोक्स के हाथों कैच आउट कराया। वहीं, शुभमन गिल भी तेवतिया की बॉल पर जोस बटलर के हाथों कैच आउट हुए।

कोलकाता की प्लेइंग इलेवन में 2 बदलाव

रॉयल्स कप्तान स्टीव स्मिथ ने प्लेइंग इलेवन में कोई बदलाव नहीं किया। वहीं, कोलकाता के कैप्टन इयोन मोर्गन ने टीम में दो बदलाव किए। रिंकू सिंह और लोकी फर्ग्यूसन की जगह शिवम मावी और आंद्रे रसेल को मौका दिया गया।

दोनों टीम में विदेशी खिलाड़ी

राजस्थान की प्लेइंग इलेवन में कप्तान स्टीव स्मिथ समेत बेन स्टोक्स, जोस बटलर और जोफ्रा आर्चर विदेशी खिलाड़ी रहे। कोलकाता की प्लेइंग इलेवन में विदेशी खिलाड़ी कप्तान इयोन मोर्गन, सुनील नरेन, आंद्रे रसेल और पैट कमिंस रहे।

सस्ते-महंगे प्लेयर्स की परफॉर्मेंस

KKR की प्लेइंग इलेवन में पैट कमिंस सबसे महंगे खिलाड़ी रहे। उन्हें फ्रेंचाइजी एक सीजन के 15.50 करोड़ रुपए देगी। कमिंस ने 4 ओवर में 34 रन देकर सबसे ज्यादा 4 विकेट लिए। राहुल त्रिपाठी 60 लाख रुपए कीमत के साथ सबसे सस्ते प्लेयर रहे। उन्होंने 39 रन की पारी खेली।

राजस्थान टीम में कप्तान स्टीव स्मिथ और बेन स्टोक्स 12.50-12.50 करोड़ रुपए कीमत के साथ सबसे महंगे प्लेयर रहे। स्मिथ ने 4 और स्टोक्स ने 18 रन की पारी खेली। 20-20 लाख रुपए कीमत के साथ रियान पराग और श्रेयस गोपाल टीम में सबसे सस्ते प्लेयर रहे। रियान बिना खाता खोले आउट हुए। वहीं, श्रेयस ने 3 ओवर में 44 रन देकर 1 विकेट लिए।

कोलकाता ने 2 और राजस्थान ने एक बार खिताब जीता

आईपीएल इतिहास में कोलकाता ने अब तक दो बार फाइनल (2014, 2012) खेला और दोनों बार चैम्पियन रही है। वहीं, राजस्थान ने लीग के पहले सीजन में ही फाइनल (2008) खेला था। उसमें उसने चेन्नई को हराकर खिताब अपने नाम किया था।


धन्यवाद 

आपका नवी 

Comments

Popular posts from this blog

संघर्ष ही जीवन है

 संघर्ष ही जीवन है  संघर्ष (struggle) ये अक्षर दिखने में छोटा सा है , परन्तु यह जीवन का हिस्सा है या समझ लीजिये की संघर्ष का नाम ही जीवन है , मनुष्य  या फिर पशु पक्षी हर किसी  का जीवन एक संघर्ष है | अगर हम सरल शब्दों में संघर्ष को परिभाषित करे तो हम सब संघर्ष से घिरे हुए और जो सफलता या  सीख मिलती है वो संघर्ष की ही देन है |  संघर्ष जीवन को निखारता, संवारता  व तराशता  हैं और गढ़कर ऐसा बना देता  हैं, जिसकी प्रशंसा करते जबान थकती नहीं। संघर्ष हमें जीवन का अनुभव कराता  हैं, सतत सक्रिय बनाता  हैं और हमें जीना सिखाता  हैं। संघर्ष का दामन थामकर न केवल हम आगे बढ़ते हैं, बल्कि जीवन जीने के सही अंदाज़ को – आनंद को अनुभव कर पाते हैं। SELFISH HUMANS - HOW TO DEAL WITH SELFISH HUMANS ? संघर्ष सफलता की कुंजी संघर्ष जीवन का वह मूलमंत्र है जिसका अनुभव हर कोई व्यक्ति करता  है और संसार में बहुत ही कम व्यक्ति होंगे जो इसका  अनुभव पाने से वंचित रहे  हो , समाज में हर कोई नाम, शोहरत, पैसा , इज्जत कमाना या फिर पढ़ाई में अव्वल होना  चाहे जो भी लक्ष्य हो वह बिना संघर्ष  के अधूरा है! संघर्ष जीवन में उतार - चढ़ाव का

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी - अगर प्यार सच्चा हो तो किस्मत उन्हें मिला ही देती है

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी  किसी  ने सच ही कहा है अगर आप किसी को सच्चे दि ल से चाहो तो कायनात भी उसे आपसे मिलाने में  जुट जाती है। और अगर किस्मत भी साथ दे दे तो वो आपको जरूर मिल जाता है।   यह कहानी कुछ ऐसी ही है जिसमे दो प्यार करने  वाले एक दूसरे से जुदा होने के बाद भी मिल जाते है।  यह कहानी और कहानियो की तरह नहीं है।  इस कहानी में किस्मत दो प्यार करने वालो को फिर से मिलाती  है।  और उन दोनों को भी नहीं पता था  कि वो दोनों जिंदगी में दुबारे मिल पाएंगे।  चलो अब हम कहानी की शुरआत करते है इस कहानी को पूरा पढ़ना जब ही आपको समझ आएगा की प्यार  किसे कहते और उसका पास होने का और जुड़ा होने का एहसास कैसा होता है।  राज और काजल दिल्ली के एक ही कॉलेज में पढ़ते है, दोनों की कॉलेज में दोस्ती हो जाती है।  और धीरे धीरे दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगते है।  राज और काजल एक दूसरे को अच्छे से समझने लगते है , और  उन दोनों का समय के साथ साथ दोस्ती और  प्यार बढ़ता जाता है। कॉलेज का आखिरी पड़ाव था और दोनों अब एक दूसरे से अलग हो रहे थे दोनों बेचैन थे की आगे वो मिल पाएंगे या नहीं उनकी जिंदगी उन्हें किस मोड़ पर

छोटी कहानी बड़ी सीख

  छोटी कहानी बड़ी सीख  🖊 लेखक नविन  एकबार एक चोर ने कसम खाई के जिंदगी में मैं कभी झूठ नहीं बोलूंगा।  परन्तु पेशे से वो तो चोर था।  और आप सब जानते है की झूठ तो चोर का सबसे महत्वपूर्ण हथियार होता है।   एकदिन वो अपनी तीन चार गधो पर समान के गट्ठर रखे हुए जा रहा था रास्ते में पुलिस चेक पोस्ट पड़ी उसके पास एक दरोगा आया और पूछा। की तुम कोन हो और क्या करते हो। सामने से जवाब मिला नसरुद्दीन हूँ  और चोरी करता हूँ।  दरोगा हैरान हो गया उसने सरे गट्ठर खुलवाए और चेक किया ज्यादा कुछ मिला नहीं सिवाय कुछ लकड़ियों के।  उसने नसरुद्दीन को जाने दिया।  कुछ दिनों बाद नसरुद्दीन फिर वही चेक पोस्ट पार कर रहा था।  फिर वही दरोगा मिला और पूछा अब भी चोरी करते हो क्या ? नसरुद्दीन ने कहा हां चोर हूँ तो चोरी ही करूंगा।  दरोगा ने फिर से सारा समान खुलवाया और चेक किया और फिर से कुछ नहीं मिला।  ये सिलसिला पुरे 20 सालो तक चलता रहा, वो दरोगा रिटायर हो गया लेकिन उसे यही एक बात खलती रही की चोर्ने समने से कुबूल किया के वो चोर है फिर भी वो कुछ बरामद नहीं क्र पाया चोरी साबित नहीं कर पाया।   Cricket Update एकदिन नसरुद्दीन दरोगा जी