Skip to main content

भारत और ऑस्ट्रेलिया पहला वनडे मैच 27 Nov. 2020

भारत और ऑस्ट्रेलिया पहला वनडे मैच 

भारत 2020 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गयी हुई है , और आज 27 नवम्बर 2020 को भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहला वनडे मैच खेला गया। भारत ऑस्ट्रेलिया में 3 वनडे, 3 T-20 और 4 टेस्ट मैच खेलेगी। भारत ने अपना पहला मैच 66 रनो से गवां दिया।

Teams:

India (Playing XI): Shikhar Dhawan, Mayank Agarwal, Virat Kohli(c), Shreyas Iyer, KL Rahul(w), Hardik Pandya, Ravindra Jadeja, Mohammed Shami, Navdeep Saini, Yuzvendra Chahal, Jasprit Bumrah

Australia (Playing XI): Aaron Finch(c), David Warner, Steven Smith, Marcus Stoinis, Marnus Labuschagne, Glenn Maxwell, Alex Carey(w), Pat Cummins, Mitchell Starc, Adam Zampa, Josh Hazlewood

ऑस्ट्रलिया कप्तान आरोन फिंच ने टॉस जीत कर कहा की हम पहले बल्लेबाजी करेंगे। ऑस्ट्रेलिया में क्रिकेट का शानदार प्रदर्शन, भीड़ के सामने खेलना अच्छा रहेगा। विकेट अच्छा लग रहा है, उम्मीद है कि हम बोर्ड पर रन बना सकते हैं और बचाव कर सकते हैं। स्टीव स्मिथ वापस आ गया है, वह मिशेल मार्श की जगह लेता है। 

विराट कोहली - एक टीम के रूप में अच्छी शुरुआत करना महत्वपूर्ण है, हमें दृढ़ता से शुरुआत करने की जरूरत है और आगे के मैचों के लिए गति निर्धारित करनी चाहिए। तैयारी अच्छी रही, हमें कुछ बहुमूल्य समय (संगरोध के समय) मिला। मयंक अग्रवाल खेलेंगे - मनीष पांडे, शुभमन गिल, शार्दुल ठाकुर, नटराजन और संजू सैमसन पांच खिलाड़ी बाहर बैठेंगे।  

50% फैंस को स्टेडियम में एंट्री
कोरोना के बीच 50% क्रिकेट फैंस को पहली बार स्टेडियम में मैच देखने की अनुमति मिली। सभी टिकट्स आधे दिन में बिक गए थे। मैच देखने की खुशी फैंस के चेहरों पर साफ देखी गई। स्टेडियम के बाहर फैंस जश्न मनाते भी दिखे।



 ऑस्ट्रेलिया ने 3 वनडे की सीरीज के पहले मैच में टीम इंडिया को 66 रन से हरा दिया। भारतीय टीम 289 दिन बाद कोरोना के बीच अपना पहला वनडे खेलने उतरी थी। इससे पहले टीम इंडिया ने 11 फरवरी को न्यूजीलैंड के खिलाफ माउंट माउनगुई में वनडे खेला था, जिसमें उसे 5 विकेट से हार मिली थी। भारत की यह लगातार चौथी हार है। इससे पहले टीम इंडिया फरवरी में न्यूजीलैंड में 3 वनडे मैच की सीरीज के सभी मैच हार गई थी।

वहीं, टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर खराब फॉर्म जारी है। उन्होंने अब तक इस मैदान पर खेले 6 मैच में 57 रन बनाए हैं। मौजूदा मैच में उन्होंने 21 रन बनाए। इससे पहले उन्होंने 5 मैच में 21 रन, 3, 1, 8 और 3 रन बनाए थे।

ऑस्ट्रेलिया ने टॉस  जीता और पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत के खिलाफ सबसे बड़ा स्कोर बनाया

ऑस्ट्रेलिया ने 6 विकेट गंवाकर 374 रन बनाए। यह भारत के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया का सबसे बड़ा स्कोर है। इससे पहले पिछले साल मोहाली में ऑस्ट्रेलिया ने 6 विकेट पर 359 रन बनाए थे।

ऑस्ट्रेलिया की ओपनिंग  ने किया कमाल  

ओपनर फिंच और डेविड वॉर्नर ने 156 रन की पार्टनरशिप कर मजबूत शुरुआत दी। फिंच ने 124 बॉल पर 114 और वॉर्नर ने 76 बॉल पर 69 रन की पारी खेली। फिंच के वनडे करियर का यह 17वां और भारत के खिलाफ चौथा शतक रहा।

स्मिथ का 62 बॉल पर शतक
वॉर्नर के आउट होने  के बाद क्रिच पर आये स्टीव स्मिथ और  फिंच ने स्टीव स्मिथ के साथ दूसरे विकेट के लिए 108 रन की पार्टनरशिप कर पारी को आगे बढ़ाया। स्मिथ ने 62 बॉल पर वनडे का अपना 10वां शतक जड़ा। उन्होंने 65 बॉल पर 105 रन की पारी खेली। इसी बीच जसप्रीत बुमराह ने फिंच को विकेटकीपर लोकेश राहुल के हाथों कैच आउट कराकर पवेलियन भेजा।

क्रिकेट की खबरे पढ़े 

छोटी कहनिया पढ़े 

मैक्सवेल फिफ्टी से चूके, स्टोइनिस खाता खोले बिना ही पव्लिअन लोटे 

मार्कस स्टोइनिस बिना खाता खोले तीसरे विकेट के तौर पर आउट हुए। युजवेंद्र चहल ने उन्हें राहुल के हाथों कैच आउट कराया। चौथा झटका मैक्सवेल के तौर पर लगा। वे 45 रन बनाकर शमी की बॉल पर रविंद्र जडेजा के हाथों कैच आउट हुए। आउट होने से पहले उन्होंने स्मिथ के साथ चौथे विकेट के लिए 57 रन की पार्टनरशिप की।

भारतीय गेंदबाज हुए असफल 

भारतीय गेंदबाजों में मोहम्मद शमी को 3 सफलता मिली। उन्होंने वॉर्नर, मैक्सवेल और स्मिथ को आउट किया। उनके अलावा जसप्रीत बुमराह, नवदीप सैनी और युजवेंद्र चहल को 1-1 विकेट मिला। चहल 10 ओवर में सबसे ज्यादा 89 रन देने वाले भारतीय स्पिनर बन गए हैं। इससे पहले भी ये रिकॉर्ड उनके ही नाम था।

भारत के ओपनिंग ने दी 50 रन की पार्टनरशिप 

भारतीय टीम को शिखर धवन और मयंक अग्रवाल ने शानदार शुरुआत दिलाई। दोनों के बीच 53 रन की ओपनिंग पार्टनरशिप हुई।

मिडिल ऑर्डर विफल  

कोहली का बल्ला एक बार फिर खामोश रहा और वह बड़ा स्कोर नहीं बना सके उसके बाद अय्यर भी सस्ते में चलते बने और राहुल भी धवन का साथ नहीं दे पाए और  टीम ने अगले 48 रन बनाने में 4 विकेट गंवा दिए। मिडिल ऑर्डर पूरी तरह फ्लॉप रहा। फिर धवन ने हार्दिक पंड्या के साथ 5वें विकेट के लिए 128 रन की पार्टनरशिप कर पारी को संभाला, लेकिन जीत नहीं दिला सके।

धवन-हार्दिक की फिफ्टी

ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 375 रन का टारगेट दिया था। इसके जवाब में भारतीय टीम 8 विकेट गंवाकर 308 रन ही बना सकी। हार्दिक पंड्या ने सबसे ज्यादा 90 और शिखर धवन ने 74 रन की पारी खेली। यह धवन की वनडे में 30वीं और पंड्या की 5वीं फिफ्टी रही।

जम्पा ने 4 विकेट लेकर भारतीय टीम ढहाई
स्पिनर एडम जम्पा ने 4 विकेट लिए। उन्होंने रविंद्र जडेजा (25), हार्दिक पंड्या और शिखर धवन को मिचेल स्टार्क के हाथों कैच आउट कराया। इससे पहले लोकेश राहुल 12 रन बनाकर आउट हुए। जम्पा की बॉल पर उनका कैच स्टीव स्मिथ ने लिया।

हेजलवुड ने भारत को शुरुआती 3 झटके दिए
भारत को शुरुआती तीनों झटके जोश हेजलवुड ने दिए। श्रेयस अय्यर (2) हेजलवुड की बॉल पर विकेटकीपर एलेक्स कैरी के हाथों कैच आउट हुए। हेजलवुड ने कप्तान कोहली (21) को मार्कस स्टोइनिस के हाथों कैच आउट कराया। इससे पहले मयंक (22) को ग्लेन मैक्सवेल के हाथों कैच आउट कराया।  

फिंच सबसे तेज 5 हजार रन बनाने वाले दूसरे ऑस्ट्रेलियाई प्लेयर

ऑस्ट्रेलियाई कप्तान फिंच ने वनडे करियर में 5 हजार रन पूरे कर लिए हैं। उन्होंने भारत के खिलाफ 17वां रन बनाते ही यह उपलब्धि हासिल की। वे सबसे तेज 126 पारी में यह रिकॉर्ड बनाने वाले दूसरे ऑस्ट्रेलियाई प्लेयर हैं। टॉप पर वॉर्नर काबिज हैं, जिन्होंने 115 पारी में 5 हजार रन पूरे किए थे।


धनयवाद 

 

ODIs:

 

Comments

Popular posts from this blog

संघर्ष ही जीवन है

 संघर्ष ही जीवन है  संघर्ष (struggle) ये अक्षर दिखने में छोटा सा है , परन्तु यह जीवन का हिस्सा है या समझ लीजिये की संघर्ष का नाम ही जीवन है , मनुष्य  या फिर पशु पक्षी हर किसी  का जीवन एक संघर्ष है | अगर हम सरल शब्दों में संघर्ष को परिभाषित करे तो हम सब संघर्ष से घिरे हुए और जो सफलता या  सीख मिलती है वो संघर्ष की ही देन है |  संघर्ष जीवन को निखारता, संवारता  व तराशता  हैं और गढ़कर ऐसा बना देता  हैं, जिसकी प्रशंसा करते जबान थकती नहीं। संघर्ष हमें जीवन का अनुभव कराता  हैं, सतत सक्रिय बनाता  हैं और हमें जीना सिखाता  हैं। संघर्ष का दामन थामकर न केवल हम आगे बढ़ते हैं, बल्कि जीवन जीने के सही अंदाज़ को – आनंद को अनुभव कर पाते हैं। SELFISH HUMANS - HOW TO DEAL WITH SELFISH HUMANS ? संघर्ष सफलता की कुंजी संघर्ष जीवन का वह मूलमंत्र है जिसका अनुभव हर कोई व्यक्ति करता  है और संसार में बहुत ही कम व्यक्ति होंगे जो इसका  अनुभव पाने से वंचित रहे  हो , समाज में हर कोई नाम, शोहरत, पैसा , इज्जत कमाना या फिर पढ़ाई में अव्वल होना  चाहे जो भी लक्ष्य हो वह बिना संघर्ष  के अधूरा है! संघर्ष जीवन में उतार - चढ़ाव का

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी - अगर प्यार सच्चा हो तो किस्मत उन्हें मिला ही देती है

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी  किसी  ने सच ही कहा है अगर आप किसी को सच्चे दि ल से चाहो तो कायनात भी उसे आपसे मिलाने में  जुट जाती है। और अगर किस्मत भी साथ दे दे तो वो आपको जरूर मिल जाता है।   यह कहानी कुछ ऐसी ही है जिसमे दो प्यार करने  वाले एक दूसरे से जुदा होने के बाद भी मिल जाते है।  यह कहानी और कहानियो की तरह नहीं है।  इस कहानी में किस्मत दो प्यार करने वालो को फिर से मिलाती  है।  और उन दोनों को भी नहीं पता था  कि वो दोनों जिंदगी में दुबारे मिल पाएंगे।  चलो अब हम कहानी की शुरआत करते है इस कहानी को पूरा पढ़ना जब ही आपको समझ आएगा की प्यार  किसे कहते और उसका पास होने का और जुड़ा होने का एहसास कैसा होता है।  राज और काजल दिल्ली के एक ही कॉलेज में पढ़ते है, दोनों की कॉलेज में दोस्ती हो जाती है।  और धीरे धीरे दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगते है।  राज और काजल एक दूसरे को अच्छे से समझने लगते है , और  उन दोनों का समय के साथ साथ दोस्ती और  प्यार बढ़ता जाता है। कॉलेज का आखिरी पड़ाव था और दोनों अब एक दूसरे से अलग हो रहे थे दोनों बेचैन थे की आगे वो मिल पाएंगे या नहीं उनकी जिंदगी उन्हें किस मोड़ पर

छोटी कहानी बड़ी सीख

  छोटी कहानी बड़ी सीख  🖊 लेखक नविन  एकबार एक चोर ने कसम खाई के जिंदगी में मैं कभी झूठ नहीं बोलूंगा।  परन्तु पेशे से वो तो चोर था।  और आप सब जानते है की झूठ तो चोर का सबसे महत्वपूर्ण हथियार होता है।   एकदिन वो अपनी तीन चार गधो पर समान के गट्ठर रखे हुए जा रहा था रास्ते में पुलिस चेक पोस्ट पड़ी उसके पास एक दरोगा आया और पूछा। की तुम कोन हो और क्या करते हो। सामने से जवाब मिला नसरुद्दीन हूँ  और चोरी करता हूँ।  दरोगा हैरान हो गया उसने सरे गट्ठर खुलवाए और चेक किया ज्यादा कुछ मिला नहीं सिवाय कुछ लकड़ियों के।  उसने नसरुद्दीन को जाने दिया।  कुछ दिनों बाद नसरुद्दीन फिर वही चेक पोस्ट पार कर रहा था।  फिर वही दरोगा मिला और पूछा अब भी चोरी करते हो क्या ? नसरुद्दीन ने कहा हां चोर हूँ तो चोरी ही करूंगा।  दरोगा ने फिर से सारा समान खुलवाया और चेक किया और फिर से कुछ नहीं मिला।  ये सिलसिला पुरे 20 सालो तक चलता रहा, वो दरोगा रिटायर हो गया लेकिन उसे यही एक बात खलती रही की चोर्ने समने से कुबूल किया के वो चोर है फिर भी वो कुछ बरामद नहीं क्र पाया चोरी साबित नहीं कर पाया।   Cricket Update एकदिन नसरुद्दीन दरोगा जी