Skip to main content

Featured

मेरे प्रभु राम से अयोध्या फिर से जगमगाई है - Shree Ram Bhajan

जिम्बाब्वे और पाकिस्तान का पहला मैच

 


जिम्बाब्वे की टीम पाकिस्तान के दौरे पर गयी है, वहाँ पर इनके 3 वन डे मैच और 3 20-20 मैच खेलेंगे। 

आज पाकिस्तान के रावलपिंडी मे दोनो के बीच पहला मैच खेला गया।

इस मैच मे पाकिस्तान ने 26 रन से जीत हासिल की।

पाकिस्तान ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी का निर्णय लिया।

हरीश रऊफ ने आज पहला इंटरनेशनल मैच खेला।

पाकिस्तान की कप्तानी की डोर Babar Azam ने समभाली।

और Zimbabwe की कप्तानी Chamu Chibhabha ने सम्भाले।

पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर मे 8 विकेट गंवाने के बाद 281 रन बनाए। पहली विकेट Abid Ali की गिरी जब पाकिस्तान के रन 47 थे, उनके आउट होने के बाद कप्तान Babar Azam आए पर वह भी जल्दी आउट हो गए, फिर Harish Sohail आए और उन्होंने पाकिस्तान की पारी को सम्भाला और 71 रन बनाय और आखिरी मे Imam Wasid ने नाबाद 26 गेंदों पर 34 रन बनाए जिसमें 2 six और 1 चौका शामिल था।

Zimbabwe की तरफ से सफल बोलिंग Muzarabani ने की 9 ओवर मे 39 रन देकर 2 विकेट ली।

Zimbabwe की टीम 282 रन का लक्ष्य पूरा करने के लिए उतरी लेकिन 49.4 ओवर मे पूरी टीम आउट हो गयीं और Zimbabwe बस 255 रन ही बना पाए।

Zimbabwe की शुरुआत अच्छी नहीं हुई और पहली विकेट पहले ओवर के तीसरी गेंद पर हो गयी shaheen Afreedi नेBrian Chari को बोल्ड किया, 2 विकेट सस्ते मे ही चली गयी उसके बाद Craig Ervine और Bredon Taylor ने पारी को सम्भाला पर 99 रन के score पर Craig भी आउट हो गये, उसके बाद अगली विकेट भी जल्दी गिर गयी, फिर आए madhevere or unhone Taylor के साथ साझेदारी की madhevere 55 रन बना कर आउट हुए उनके पीछे पीछे Taylor भी आउट हो गए, Taylor ने 112 रन की पारी खेली और शर्मनाक हार होने से बचाया।

पाकिस्तान की तरफ से Shaheen Afridi और wahab Riaz ने बहुत अच्छी बोलिंग की Shaheen ने 5 विकेट लिए और Riaz ने 4।

Zimbabwe के Brandon Taylor को प्लेयर ऑफ मैच चुना।

अब देखते हैं अगले मैच मे Zimbabwe वापसी कर पाता है या नहीं 1 नवंबर को।


धन्यवाद, 

आपका नवीं 

Comments

Popular posts from this blog

संघर्ष ही जीवन है

 संघर्ष ही जीवन है  संघर्ष (struggle) ये अक्षर दिखने में छोटा सा है , परन्तु यह जीवन का हिस्सा है या समझ लीजिये की संघर्ष का नाम ही जीवन है , मनुष्य  या फिर पशु पक्षी हर किसी  का जीवन एक संघर्ष है | अगर हम सरल शब्दों में संघर्ष को परिभाषित करे तो हम सब संघर्ष से घिरे हुए और जो सफलता या  सीख मिलती है वो संघर्ष की ही देन है |  संघर्ष जीवन को निखारता, संवारता  व तराशता  हैं और गढ़कर ऐसा बना देता  हैं, जिसकी प्रशंसा करते जबान थकती नहीं। संघर्ष हमें जीवन का अनुभव कराता  हैं, सतत सक्रिय बनाता  हैं और हमें जीना सिखाता  हैं। संघर्ष का दामन थामकर न केवल हम आगे बढ़ते हैं, बल्कि जीवन जीने के सही अंदाज़ को – आनंद को अनुभव कर पाते हैं। SELFISH HUMANS - HOW TO DEAL WITH SELFISH HUMANS ? संघर्ष सफलता की कुंजी संघर्ष जीवन का वह मूलमंत्र है जिसका अनुभव हर कोई व्यक्ति करता  है और संसार में बहुत ही कम व्यक्ति होंगे जो इसका  अनुभव पाने से वंचित रहे  हो , समाज में हर कोई नाम, शोहरत, पैसा , इज्जत कमाना या फिर पढ़ाई में अव्वल होना  चाहे जो भी लक्ष्य हो वह बिना संघर्ष  के अधूरा है! संघर्ष जीवन में उतार - चढ़ाव का

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी - अगर प्यार सच्चा हो तो किस्मत उन्हें मिला ही देती है

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी  किसी  ने सच ही कहा है अगर आप किसी को सच्चे दि ल से चाहो तो कायनात भी उसे आपसे मिलाने में  जुट जाती है। और अगर किस्मत भी साथ दे दे तो वो आपको जरूर मिल जाता है।   यह कहानी कुछ ऐसी ही है जिसमे दो प्यार करने  वाले एक दूसरे से जुदा होने के बाद भी मिल जाते है।  यह कहानी और कहानियो की तरह नहीं है।  इस कहानी में किस्मत दो प्यार करने वालो को फिर से मिलाती  है।  और उन दोनों को भी नहीं पता था  कि वो दोनों जिंदगी में दुबारे मिल पाएंगे।  चलो अब हम कहानी की शुरआत करते है इस कहानी को पूरा पढ़ना जब ही आपको समझ आएगा की प्यार  किसे कहते और उसका पास होने का और जुड़ा होने का एहसास कैसा होता है।  राज और काजल दिल्ली के एक ही कॉलेज में पढ़ते है, दोनों की कॉलेज में दोस्ती हो जाती है।  और धीरे धीरे दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगते है।  राज और काजल एक दूसरे को अच्छे से समझने लगते है , और  उन दोनों का समय के साथ साथ दोस्ती और  प्यार बढ़ता जाता है। कॉलेज का आखिरी पड़ाव था और दोनों अब एक दूसरे से अलग हो रहे थे दोनों बेचैन थे की आगे वो मिल पाएंगे या नहीं उनकी जिंदगी उन्हें किस मोड़ पर

छोटी कहानी बड़ी सीख

  छोटी कहानी बड़ी सीख  🖊 लेखक नविन  एकबार एक चोर ने कसम खाई के जिंदगी में मैं कभी झूठ नहीं बोलूंगा।  परन्तु पेशे से वो तो चोर था।  और आप सब जानते है की झूठ तो चोर का सबसे महत्वपूर्ण हथियार होता है।   एकदिन वो अपनी तीन चार गधो पर समान के गट्ठर रखे हुए जा रहा था रास्ते में पुलिस चेक पोस्ट पड़ी उसके पास एक दरोगा आया और पूछा। की तुम कोन हो और क्या करते हो। सामने से जवाब मिला नसरुद्दीन हूँ  और चोरी करता हूँ।  दरोगा हैरान हो गया उसने सरे गट्ठर खुलवाए और चेक किया ज्यादा कुछ मिला नहीं सिवाय कुछ लकड़ियों के।  उसने नसरुद्दीन को जाने दिया।  कुछ दिनों बाद नसरुद्दीन फिर वही चेक पोस्ट पार कर रहा था।  फिर वही दरोगा मिला और पूछा अब भी चोरी करते हो क्या ? नसरुद्दीन ने कहा हां चोर हूँ तो चोरी ही करूंगा।  दरोगा ने फिर से सारा समान खुलवाया और चेक किया और फिर से कुछ नहीं मिला।  ये सिलसिला पुरे 20 सालो तक चलता रहा, वो दरोगा रिटायर हो गया लेकिन उसे यही एक बात खलती रही की चोर्ने समने से कुबूल किया के वो चोर है फिर भी वो कुछ बरामद नहीं क्र पाया चोरी साबित नहीं कर पाया।   Cricket Update एकदिन नसरुद्दीन दरोगा जी