Skip to main content

Makeup need in Human Life (मेकअप के बिना अधूरा इंसान )

मेकअप का आम इंसान की जिंदगी में महत्व 

मेकअप की महत्वता आज के समय में बहुत हो गयी है, इसमें पुरुष हो या महिलाये सबको मेकअप  के बिना अधूरा लगता है, या हम ये कह सकते है कि मेकअप के बिना हर किसी की ज़िंदगी अधूरी है।  मेकअप चेहरे की सुंदरता को निखारने  लिए एक अच्छा तरीका है, और  मेकअप को लेकर सभी के अलग अलग मत भी है।   कोई इसे सजने सवरने का साधन समझता है,  कोई इसे  पैसे की बर्बादी समझता है, तो  कुछ लोग इसे अपनी ज़िंदगी का हिस्सा समझते है।  उन्हें लगता है की मेकअप के बिना वो अधूरे है, हम किसी  की सोच में बदलाव नहीं कर सकते किन्तु आधुनिक युग में इसका एक महत्वपूर्ण स्थान बनता जा रहा है। 


अब आपकी क़ाबलियत के साथ  आपकी पर्सनॅलिटी भी बहुत मत्वपूर्ण  है और पर्सनॅलिटी के लिये  हमे अच्छा दिखने पर भी ध्यान देना होता है और पर्सनॅलिटी हमारे व्यक्तित्व का  एक भाग है।  मेकअप से हर व्यक्ति सुन्दर बन जाता है और थोड़े से मेकअप प्रोडक्ट्स की मदद से व्यक्ति की सुंदरता में और निखार आ जाता है। मेकअप करने से  न सिर्फ हम आकर्षित दिखते बल्कि इससे हमारा आत्मविश्वास भी बढ़ जाता है। क्योकि जब हमारी सुंदरता की कोई तारीफ करता है तो आत्मविश्वाश अपने आप बढ़ जाता है।  मेकअप करने के लिए हम तरह - तरह के मेकअप प्रोडक्ट्स का  प्रयोग करके अपने आपको सवारते या फिर अपने आप की पर्सनॅलिटी को निखारते है।

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी - अगर आप भी किसी से प्यार करते है तो यह कहानी जरूर पढ़े आपको पसंद आयेगी। 
  
जब बात मेकअप की  हो रही हो तो यह जान लेना बहुत जरुरी है कि मेकअप को लेकर सबकी अलग -अलग मांग होती है।  मेकअप हमेशा ऐसा होना चाहिए जो आपके व्यक्तित्व और  रहन-सहन को प्रभावित करे।  मेकअप आकर्षक दिखने के साथ साथ अवसर के अनुसार भी होना चाहिए।  आप किसी भी प्रोफ़ेशन को चुनो लेकिन आपक आकर्षक दिखना महत्वपूर्ण हो गया है जिसमे मेकअप आपको सहयोग देता है।  अगर इतिहास को देखे तो पहले भी लोग मेकअप करते थे महिलाये अपने होठो  को लाल करती थी और माथे पर बिंदी की जंगह सिंदूर  की बिंदी बनती थी और आकर्षक दिखने का प्रयास करती थी और पुरुष अपनी दाढ़ी और बाल कटवा कर आकर्ष्क दिखने का प्रयास करते थे।  संसार के विभिन्न देशों के साहित्य और संस्कृति इतिहास के अध्ययन से पता चलता है कि  अलग -अलग अवसरों पर प्रगतिशील नागरिको दवारा मेकअप प्रोडक्ट्स का निर्माण प्राकृतिक और मुख्यतया वनस्पति संसधनों द्वारा होता रहा है। 


महिलाओ और पुरुषो में मेकअप की उत्तेजना 

आज के समय में मेकअप के मामले में पुरुष महिलाओ को भी पीछे छोड़ रहे है।  कोन कहता है पुरुष मेकउप  नहीं करते है।  आज कल तो पुरुष महिलाओ से ज्यादा मेकअप पर ध्यान दे रहे है क्योकि उन्हें भी तो सूंदर दिखना है।  इस समय जिस तरह महिलाओ और परुषो को समान समझा जाता है उसी प्रकार दोनों को मेकअप में भी एक दूसरे का पूरा योगदान दिया जा रहा है।  हम सब जानते है की महिलाए मेकअप में पीछे नहीं है और जब से महिलाये ऑफिस जाने लगी जॉब करने लगी उसी प्रकार उनकी मेकअप की उत्तेजना और बढ़ने लगी क्योकि सूंदर तो हर कोई दिखना चाहता है तो उसके लिए मेकअप बहुत जरुरी है।  और पुरुष भी इसी तरह खुद को मेकअप के द्वारा सूंदर प्रदर्शित करने की कोशिश करता है।  

इस प्रकार हम कह सकते है की आज के समय में मनुष्य मेकउप के बिना अधूरा है। 

अगर आपको मेरा यह लेख पसंद आया हो तो इस पर आप सभी कमेंट के दवारा बताये और मुझे यह भी बताये की मुझे अपने लेख में क्या सुधार करने की जरूरत है।  आप मुझे मेल भी कर सकते है npcoolguy1@gmail.com
आपका अपना ब्लॉग www.idealjaat.com   




धन्यवाद 
आपका नवी 


Comments

  1. It's a great option when you play online roulette at house but still need the social interplay of being 1xbet korea in a land casino. The truth that|proven fact that} human dealers are used means reside dealer roulette is commonly only available to play with real money. Over the years, many individuals have tried to beat the casino, and turn roulette—a recreation designed to show a profit for the house—into one on which the player expects to win.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

संघर्ष ही जीवन है

 संघर्ष ही जीवन है  संघर्ष (struggle) ये अक्षर दिखने में छोटा सा है , परन्तु यह जीवन का हिस्सा है या समझ लीजिये की संघर्ष का नाम ही जीवन है , मनुष्य  या फिर पशु पक्षी हर किसी  का जीवन एक संघर्ष है | अगर हम सरल शब्दों में संघर्ष को परिभाषित करे तो हम सब संघर्ष से घिरे हुए और जो सफलता या  सीख मिलती है वो संघर्ष की ही देन है |  संघर्ष जीवन को निखारता, संवारता  व तराशता  हैं और गढ़कर ऐसा बना देता  हैं, जिसकी प्रशंसा करते जबान थकती नहीं। संघर्ष हमें जीवन का अनुभव कराता  हैं, सतत सक्रिय बनाता  हैं और हमें जीना सिखाता  हैं। संघर्ष का दामन थामकर न केवल हम आगे बढ़ते हैं, बल्कि जीवन जीने के सही अंदाज़ को – आनंद को अनुभव कर पाते हैं। SELFISH HUMANS - HOW TO DEAL WITH SELFISH HUMANS ? संघर्ष सफलता की कुंजी संघर्ष जीवन का वह मूलमंत्र है जिसका अनुभव हर कोई व्यक्ति करता  है और संसार में बहुत ही कम व्यक्ति होंगे जो इसका  अनुभव पाने से वंचित रहे  हो , समाज में हर कोई नाम, शोहरत, पैसा , इज्जत कमाना या फिर पढ़ाई में अव्वल होना  चाहे जो भी लक्ष्य हो वह बिना संघर्ष  के अधूरा है! संघर्ष जीवन में उतार - चढ़ाव का

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी - अगर प्यार सच्चा हो तो किस्मत उन्हें मिला ही देती है

प्यार करने वालो की प्यारी सी कहानी  किसी  ने सच ही कहा है अगर आप किसी को सच्चे दि ल से चाहो तो कायनात भी उसे आपसे मिलाने में  जुट जाती है। और अगर किस्मत भी साथ दे दे तो वो आपको जरूर मिल जाता है।   यह कहानी कुछ ऐसी ही है जिसमे दो प्यार करने  वाले एक दूसरे से जुदा होने के बाद भी मिल जाते है।  यह कहानी और कहानियो की तरह नहीं है।  इस कहानी में किस्मत दो प्यार करने वालो को फिर से मिलाती  है।  और उन दोनों को भी नहीं पता था  कि वो दोनों जिंदगी में दुबारे मिल पाएंगे।  चलो अब हम कहानी की शुरआत करते है इस कहानी को पूरा पढ़ना जब ही आपको समझ आएगा की प्यार  किसे कहते और उसका पास होने का और जुड़ा होने का एहसास कैसा होता है।  राज और काजल दिल्ली के एक ही कॉलेज में पढ़ते है, दोनों की कॉलेज में दोस्ती हो जाती है।  और धीरे धीरे दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगते है।  राज और काजल एक दूसरे को अच्छे से समझने लगते है , और  उन दोनों का समय के साथ साथ दोस्ती और  प्यार बढ़ता जाता है। कॉलेज का आखिरी पड़ाव था और दोनों अब एक दूसरे से अलग हो रहे थे दोनों बेचैन थे की आगे वो मिल पाएंगे या नहीं उनकी जिंदगी उन्हें किस मोड़ पर

छोटी कहानी बड़ी सीख

  छोटी कहानी बड़ी सीख  🖊 लेखक नविन  एकबार एक चोर ने कसम खाई के जिंदगी में मैं कभी झूठ नहीं बोलूंगा।  परन्तु पेशे से वो तो चोर था।  और आप सब जानते है की झूठ तो चोर का सबसे महत्वपूर्ण हथियार होता है।   एकदिन वो अपनी तीन चार गधो पर समान के गट्ठर रखे हुए जा रहा था रास्ते में पुलिस चेक पोस्ट पड़ी उसके पास एक दरोगा आया और पूछा। की तुम कोन हो और क्या करते हो। सामने से जवाब मिला नसरुद्दीन हूँ  और चोरी करता हूँ।  दरोगा हैरान हो गया उसने सरे गट्ठर खुलवाए और चेक किया ज्यादा कुछ मिला नहीं सिवाय कुछ लकड़ियों के।  उसने नसरुद्दीन को जाने दिया।  कुछ दिनों बाद नसरुद्दीन फिर वही चेक पोस्ट पार कर रहा था।  फिर वही दरोगा मिला और पूछा अब भी चोरी करते हो क्या ? नसरुद्दीन ने कहा हां चोर हूँ तो चोरी ही करूंगा।  दरोगा ने फिर से सारा समान खुलवाया और चेक किया और फिर से कुछ नहीं मिला।  ये सिलसिला पुरे 20 सालो तक चलता रहा, वो दरोगा रिटायर हो गया लेकिन उसे यही एक बात खलती रही की चोर्ने समने से कुबूल किया के वो चोर है फिर भी वो कुछ बरामद नहीं क्र पाया चोरी साबित नहीं कर पाया।   Cricket Update एकदिन नसरुद्दीन दरोगा जी